Whatsapp Shayari - विश्वास में विष भी है आस भी है


Vishvas me vish bhi hai aas bhi hai
or ye hum par nirbhar karta hai ki
kya lena or kya dena hai.



Whatsapp Shayari

Whatsapp Shayari



विश्वास में विष भी है आस भी है,
और ये हम पर निर्भर करता है कि
क्या लेना और देना है।


Post a Comment

0 Comments